सिरमौर पुलिस ने धर दबोचे ATM बदलकर ठगी करने वाले बदमाश अंतर्राज्यी गिरोह का पर्दाफाश

0
1837

 

(जसवीर सिंह हंस ) सिरमौर पुलिस को ATM बदलकर ठगी करने के आरोपियों को पकड़ने में सफलता मिली है | पुलिस की एक विशेष टीम ने दिल्ली  से चार आरोपियों को पकड़ने में सफलता मिली है | पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार दो वर्ष पहले  नाहन   में एक मुकदमा दर्ज हुआ था जिसमे   शिकायतकर्ता   ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई थी कि जब वह ATM से पैसे निकलवाने गये तो किसी शातिर ने उनका ATM बदलकर उनके खाते से सोलन व सराह में  एक लाख रुपए निकल लिए  | पुलिस ने 13 फरवरी  2016  को नाहन पुलिस स्टेशन में आई पी सी की धारा 420 , 34 के अंतर्गत मामले दर्ज किया था  |

काफी जाँच के बाद इस मामले में पुलिस ने मामले में अनट्रेस रिपोर्ट बना दी थी परन्तु अब दोबारा इस मामले की जाँच की गयी तो कुछ लोगो के नाम सामने आये | सिरमौर के पुलिस अधीक्षक रोहित मालपानी ने इस मामले में पुलिस की एक टीम गठित की थी | इस टीम ने इन शातिर अपराधियों को दिल्ली से धर दबोचा है | व अब पुलिस की टीम उनको नाहन ले आई है व अरोपिसे से पूछताछ कर इस मामले की तह तक जाएगी व आरोपियों की  अन्य मामलो में संलिग्धता के बारे में भी पूछताछ करेगी | पुलिस को आरोपियों के कब्जे से करीब भारी मात्र में नकदी , 55 ATM , दो लैपटॉप , ATM क्लोन करने वाली मशीन व स्कैनर , व अन्य सामान बरामद हुआ है | लेपटोप में ATM क्लोन करने वाले सॉफ्टवेयर भी पाए गये है  |

इसे सिरमौर पुलिस के लिए बड़ी सफलता माना जा रहा क्यूंकि इस तरह के मामलो में शातिर अपराधियों तक पहुचना काफी मुश्किल काम होता है व अपराधी काफी शातिराना तरीके से इस तरह की वारदातों को अंजाम देते है  | दिल्ली से अपराधियों को धर दबोचने वाली टीम में ए एस आई मदन साइबर एक्सपर्ट हेड कांस्टेबल कल्याण साइबर एक्सपर्ट कांस्टेबल अमरेंदर सिंह  आदि शामिल थे | गोरतलब है कि इस टीम में ऐसे लोग शामिल किये गये थे जो पुलिस में बेहतरीन सेवाए दे रहे है मामले हल करने सहित अपराधियों को धर दबोचने में महारत रखते है व डी जी पी डिस्क सहित अन्य अवार्ड तक से नवाजे जा चुके है |

इस मामले में पुलिस ने काल रिकॉर्ड व टावर लोकेशन के आधार पर जाँच को आगे  बढाया फेसबुक व व्हात्ट्स एप्प की भी सहायता ली गयी व आरोपियों के पहचान व ट्रैक फेसबुक के आधार पर किया गया | व पुलिस की एक टीम बिहार भी भेजी गयी ओ की वहा लगभग 15 दिन रही | वाही साइबर सेल टीम जिसको  अमरेंदर सिंह लीड कर रहे थे ने एक हनी ट्रैप के जरियों आरोपियों को अपने चंगुल में लाया | इस ये बात भिमुखय रूप से सामने आई की आरोपी बिहार से देल्ली  व इसके आसपास के इलाको में आते थे व अपराध करके वापिस बिहार भाग जाते थे  | गोरतलब है कि ये सरे अपराधी शाही जिन्दगी जी  रहे थे व इन्होने  उत्तराखंड देल्ली , हरियाणा , व हिमाचल प्रदेश आदि राज्यों में ऐसी कई वारदातों को अंजाम दिया है |

इस मामले में आई टी एक्ट व आई पी सी की धारा में नया मामला नाहन में दर्ज किया गया है व जप्त किये गये सारे सामान को जप्त कर सील कर  लिया गया है  | वाही अन्य राज्यों व हिमाचल प्रदेश के सभी जिलो की पुलिस को भी इस मामले में सूचित कर दिया  गया है सिरमौर के पुलिस अधीक्षक रोहित मालपानी ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि पुलिस की टीम ने बेहतरीन काम करते हुए ATM बदलकर  ठगी करने वाले चार अपराधियों को दिल्ली से गिरफ्तार किया है कल उनको कोर्ट में पेश किया जायेगा  |

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here