पाँवटा साहिब में ट्रामा सेंटर खुलने की उम्मीद टूटी ,विधायक सुखराम चौधरी झूठ का पुलिंदा बोले किरनेश जंग

0
530

(जसवीर सिंह हंस ) दिसंबर 2016  में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा  देहरादून से शिमला जाते हुए पाँवटा साहिब रुके थे |  उस समय  विपक्ष में रहते हुए सुखराम चौधरी ने पाँवटा साहिब के अस्पताल के बुरे हाल के बारे में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को अवगत कराया तो चुनावी मोसम देखते हुए उन्होंने मोके पर ही ये घोषणा कर दी की वो पाँवटा साहिब आये है है तो सारी मांगे पूरी करते है |

उनका कहना था की पाँवटा साहिब में ट्रामा सेंटर ,ऍम आर आई व डाईलिसिस सेंटर आ जाने पर लोगो को महंगे इलाज के लिए देहरादून यमुनानगर व चंडीगढ़ नहीं जाना पड़ेगा व लोगो का समय और पैसा भी बचेगा | चुनाव जितने के बाद पांवटा साहिब में विधायक सुखराम चौधरी ने पत्रकारवार्ता कर हॉस्पिटल में ट्रामा  सेंटर व ऍम आर आई  की सुविधा की घोषणा दोबारा की थी |  राजनीती में माहिर सुखराम चौधरी अनेक मंचो से भी  हॉस्पिटल में ट्रामा  सेंटर व ऍम आर आई  की सुविधा की घोषणा करते रहे है |

आज स्वास्थ्य मंत्री  विपिन सिंह परमार ने एक बैठक के दोरान बताया की हिमाचल प्रदेश में नौ और ट्रॉमा सेन्टर स्वीकृति हेतु केन्द्र सरकार को भेजे गए हैं। इनमें ऊना, नाहन, रिकांगपिओ, धर्मपुर जिला सोलन, नूरपुर, पालमपुर, जोगिन्द्र नगर, केलंग तथा नालागढ़ शामिल हैं। जिनमे पाँवटा साहिब में ट्रामा सेंटर खोलने की कोई बात नहीं है | इससे पाँवटा साहिब की जनता में मायूसी छा गयी है |

वही  पूर्व विधायक किरनेश जंग का कहना है की जनता को अभी तक ट्रामा सेंटर ,ऍम आर आई  की सुविधा नहीं मिल पाई है है और यह भाजपा के  15 लाख वाल्रे जुमले की तरह बनकर रह गया है  | उनका कहना है की विधायक सुखराम झूठ का पुलिंदा है तथा जनता को भर्मित करने में लगे हुए है | पूर्व विधायक किरनेश जंग का कहना है की जुमलेबाज़ मोदी की तरह केंद्र व हिमाचल प्रदेश के भाजपा  नेता भी झूठी घोषणाये करने में लगे हुए है | पूर्व विधायक किरनेश जंग का कहना है की जनता आने वाले लोकसभा चुनावो में भाजपा को वोट न लेकर इसका बदला लेगी |

आज हुई बैठक के दोरान स्वास्थ्य मंत्री  विपिन सिंह परमार ने कहा कि राज्य के लिए छः ट्रॉमा सेन्टर स्वीकृत हुए हैं जिनमें आईजीएमसी शिमला, मेडिकल कालेज टांडा जिला कांगड़ा, चम्बा, मण्डी जिला में नेरचौक, हमीरपुर तथा रामपुर शामिल हैं जबकि कुल्लू तथा बिलासपुर में ये केन्द्र पहले ही संचालित किए जा रहे हैं। इसके अलावा, नौ और ट्रॉमा सेन्टर स्वीकृति हेतु केन्द्र सरकार को भेजे गए हैं। इनमें ऊना, नाहन, रिकांगपिओ, धर्मपुर जिला सोलन, नूरपुर, पालमपुर, जोगिन्द्र नगर, केलंग तथा नालागढ़ शामिल हैं। उन्होंने कहा कि इन सभी ट्रॉमा सेन्टरों के स्वीकृत हो जाने पर राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं में एक नया अध्याय जुड़ेगा।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here